Feeds:
Posts
Comments

Archive for March, 2009


https://bharatbegwani.wordpress.com/kuch-taaja/happy-holi/

Advertisements

Read Full Post »


आज जो लिखने को बैठे पच्चीस,
कलम चलती नहीं, हम क्या करें।

थे खुश की अब हमे मिल गए हैं पंख, उड़ लेंगे हम,
पर जब निकले हवा में, थी हवा प्रचंड, हम क्या करें।

Read Full Post »


शादी से पहले प्रेमी:

तुझे देख कर,
मेरे दिल की धड़कन बढ़ जाती है,
काश तू मेरी होती,
काश तू परी होती

शादी के बाद पति:

तुझे देखने से पहले ही,
आँखें फूट गयी होती,
घर में न आज लडाई होती,
काश तू आज पराई होती

Read Full Post »


गुजरे है यादों के मौसम, क्यू तन्हा छोड़ यू तड़पाते हो,
हो जाती है आँखें यू नम, क्यू इतना तुम याद आते हो,

चंद लम्हों की वो बातें, साथ गुजारी वो दिन- रातें,
घडी की सुइयों का न रुकना, वो साथ निभाने की दो बातें,
जब-जब आँखें बंद होती है, क्यू इतना तुम याद आते हो।

वो रात के नीरव सन्नाटे में, वो सुबह के स्वर्णिम उजाले में,
वो शहर की व्यस्ततम सडको पर, वो गाँव की खुली राहों में,
जब- जब आँखें खुलती है, क्यू इतना तुम याद आते हो।

वो रात की मीठी नींदों में, वो दिन भर फैली थकानों में,
वो हर एक दुख की आहों में, वो दिल से निकली दुआओं में,
जब- जब भी सांसे निकलती हैं, क्यू इतना तुम याद आते हो।

वो भौर की पावन हवाओं में, वो खिलते फूलों की फिजाओं में,
वो मिट्टी की सोंधी खुशबू में, वो जीत की हर एक हंसी में,
जब- जब भी सांसे लेता हूँ, क्यू इतना तुम याद आते हो।

Read Full Post »


सोचा उस पार, निहारा कई बार, पाया कई बार,
थी तमन्ना, एक हकीकत या एक कल्पना,
सोच के बढा जो आगे, रुक गया, फिर देखा,
सोचा, समझा, फिर एक पल को लगा,
शायद……………
मंजिले अभी और भी है………………….

Read Full Post »


मोहब्बत करने दो मुझको,
किसी पे मरने दो मुझको,
बहुत ही दूर मन्जिल है,
जरा सा चलने दो मुझको,
नही मै तैर सकता हू,
फिर भी दरिया बुलाता है,
बहुत है प्यार दरिया का,
दरिया मे उतरने दो मुझको,
मेरी हस्ती अधुरी है,
तेरे बिना मेरे साजन,
मिल जाओ आकर तुम मुझ मे,
मुक्कमल होने दो मुझको

Read Full Post »


जिन्दगी से हर कदम एक ही तमन्ना है,

वो मेरे से कुछ ऐसा ना करवाए,

जो किसी को दुखी कर दे|

 

जिन्दगी से एक ही गुजारिश है,

ना लाये वो पल कभी,

जो मेरे साथ रहने वालों को तन्हा कर दे|

 

जिन्दगी से कोई शिकवा ना हो,

गर आए दुःख के पत्थर राहों में,

तो हंस के हटा दू उसे,

गर दे मुझे ख़ुशी के पल,

तो बाँट दू हर एक में उसे,

जिन्दगी तू मुझे जिस भी हाल में रखे,

तेरा शुक्रिया हर पल करता रहूँ||

Read Full Post »