Feeds:
Posts
Comments

Archive for April, 2009


कहूं आज कुछ, ये दिल की तमन्ना है।
गम है कम, ख़ुशी का सागर बड़ा है।
हंसी का ज्वार कुछ यूँ उमड़ पड़ा है,
ना चाहू फिर भी ये दिल हंस पड़ा है।

चाहा था जो दिल ने, वोही आज हुआ है।
थी ये दिल की तमन्ना, ये दिल कह रहा है।
मन का मयूर आज फिर नाच उठा है,
ख़ुशी का पैमाना कुछ यूँ छलक पड़ा है।

दिल ही ये सोचे, क्यूँ दिल हंस रहा है,
दिल ही ये चाहे, के दिल हंस रहा है।
है दिल की तमन्ना, कि दिल खुश रहा है,
कुछ लबो पे आये, कुछ दिल में पड़ा है।

गर जो होती, पावों में वो शक्ति,
गर जो होती, ख्यालो में शक्ति,
तो होता मैं पास आज तुम्हारे,
तुम्हारे लिए ही ये दिल हंस पड़ा है।
ना चाहू फिर भी ये दिल हंस पड़ा है…………………

*****भरत***

Read Full Post »

Yaad


CHAHTA HOON BAHUT ROKNA,

PAR YE DIL NAHI RUK PATA HAI,

YAAD TERI AATE HI BAS,

DIL PAAGAL SA HO JATA HAI,

BAS RO KAR KE RAH JATA HAI.

 

KHAYALON ME TU AATI HAI BAHUT,

TADPATI BHI HAI BAHUT,

TADAP KE YE DIL KEH UTHTA HAI,

YAAD TERI AATI HAI BAHUT.

 

CHAHTA HAI YE DIL MILNA,

PAR MAJBOORI PAIR PAKDATI HAI,

CHAHTA HOON TUJHE BHULANA,

PAR PHIR-PHIR YAADEIN UMADATI HAI.

 

KARTA HOON JAB BHI DHYAN TERA MAIN,

DIL CHHATPATA KE RAH JATA HAI,

MILNE KA TUJHSE KHAWAB MERA,

BAS DIL ME HI RAH JATA HAI.

 

DIKHTI HAI TASWEER TERI JAB,

AANKH ME PAANI LIYE HUE,

YE KAHTE-KAHTE MAT RO TU,

DIL TADAP-TADAP RO JATA HAI.

 

AATA HOGA TUJHKO BHI,

KABHI-KABHI KHAYAAL MERA,

MAT SAMAJH ISKO SIRF KAVITA,

YAHI HAI DIL KA HAAL MERA.

 

****Bharat****

Read Full Post »