Feeds:
Posts
Comments

Archive for July, 2017


Check this out: गागर में सागर (Gagar Me Sagar) (Hindi Edition) http://www.amazon.in/dp/B0746PZX4F/ref=cm_sw_r_wa_awdo_mJIEzbCCTME4X

Read Full Post »


कब से था मैं बेकरार,
कब से था ये इंतज़ार,
“भरत” देखते ही देखते,
भोर कब की हो गयी,
फूल तो खिले गुलशन में,
कलियाँ सारी मर गयी.॥

Read Full Post »