Feeds:
Posts
Comments

Posts Tagged ‘बेगवानी’


पिता पुत्र आपस मे बतिया रहे थे,
किस्से अपने अपने सुना रहे थे,
पिता बोले-
एक समय ऐसा होता था,
जब नौकरी मे इतना पैसा नही होता था,
तब भी हम अच्छे से घर चलाते थे,
और दो पैसे भी बचाते थे,
50 रूपये लेकर जाते थे,
और महीने भर का राशन ले आते थे,
बेटा बोला-
पिताजी आजकल यह मुमकिन नही होता है,
हर दुकान मे CCTV लगा होता है॥

Advertisements

Read Full Post »


नए सपने लेकर,
नए संकल्प लेकर,
नयी रौशनी संग,
नया सवेरा आया है ।
पंख लगा कर गगन में उड़ ले,
आँखों में अरमान भर ले,
खुले आसमान में सितारों संग,
नया सवेरा आया है ।
ओस के मोती सजाये,
कलियों के अरमान जगाये,
कोयल के मधुर गान संग,
नया सवेरा आया है ।
सपने सुहाने नए साल में,
बिखरे मुस्काने नए साल में,
नव संकल्प हो नए साल में,
बढे प्रेम इस नए साल में,
चहु और खुशहाली नए साल में,
प्रेम शकुन की बंसी के संग,
नया सवेरा आया है ।

Read Full Post »


जज्बात लेकर चला था कुछ,

अरमान लेकर निकला था कुछ,

राहे भी वो अजीब थी,

राही भी कुछ अजीब थे,

चलता रहा बिना रुके,

चलता रहा बिना थके,

ना कोई हिसाब था,

ना कोई परवाह थी,

आज मंजिल पर पहुँच कर,

पता चला अ “भरत”

मंजिले बहुत महँगी थी,

सारे अरमान खर्च हो गए||

Read Full Post »