Feeds:
Posts
Comments

Posts Tagged ‘बेगवॉनी’


कुछ अक्स बस दिल मे रह जाते है,
घोंसले छोड़ परिंदे भी उड़ जाते है,
वो सूरते जिनको देख कर जीते थे,
ये चक्षु अब देखने को तरस जाते है,
जिंदगी के रंगमंच पर निभा,
अपना किरदार बखूबी,
दुखद अंत के साथ,
आंखों में अश्क़ पिरो जाते है,
चले जाते है यकायक ऐसे,
जाने वाले लौट के नही आते है॥

Advertisements

Read Full Post »


मन से मन का मैल मिटाये,
आओ इस दीवाली में,
जग मग मन का हर कण बनाए,
आओ इस दीवाली में,
अमीरो के घर पर शोर शराबा,
चलो गरीब के घर दीप जलाए,
आओ इस दीवाली में।

कुछ ऐसा संकल्प कर ले,
आओ इस दीवाली में,
रोटी रूपी रोशनी महके,
हर एक गरीब की थाली में,
जग में खुशियों के दीप जलाए,
आओ इस दीवाली में।

शुद्ध आचरण की बगिया महके,
दुष्ट आचरण की थाली खाली,
आओ इस दीवाली में,
हो नैतिकता की प्राण प्रतिष्ठा,
मानवता के पुष्प खिलाये,
आओ इस दीवाली में।

तिमिर का कर नाश,
सत्य का दीप जलाये,
आओ इस दीवाली में।
तमसो म ज्योतिर्गमय का
भाव जगाये,
आओ इस दीवाली में।

हो महावीर सी समता साधना,
सुख संतोष समाये मन में,
आओ इस दीवाली में।
कुंठाओ का ह्रास करे,
अंतर्मन का दीप जला कर,
“भरत” आओ इस दीवाली में॥

Read Full Post »


इस राखी पर बहना तुम, इतना सा धर्मं निभा देना,

भाई से चाहे मिल ना पाओ,सास ससुर का मान बढ़ा देना,

ननद तुम्हारी शायद, ससुराल रोज ना आ पाए,

जब भी आये मेहमान बनकर, आकर तुरंत ही चली जाए,

बहु तुम्हे वो समझे भी तो, बेटी का धर्म निभा देना,

पीहर के संस्कारों से, ससुराल की बगिया महका देना,

तुम भी हो बेटी किसी की, इस बात को ना भुला देना,

रखना ख्याल सास ससुर का, बस इतना धर्म निभा देना|

 

माँ कहती है बहना तेरी, ससुराल में सुख तू पायेगी,

मिलने गर ना भी आ पाए, माँ-बाप का मान तो बढ़ाएगी,

दे प्यार सभी को इतना तू, इतनी अपनी हो जाएगी,

ननंद की कमी को भी तू, शायद पूरा भर पायेगी,

रिश्ते नातो की गर्माहट से, तू घर को स्वर्ग बनाएगी,

आँखों से चाहे दूर सही, माँ तेरी मोद मनाएगी|

 

जलता हु किस्मत से तेरी, तू दो-दो माँ-बाप पायेगी,

दो-दो माँ के चरणों में, दो-दो स्वर्ग, लुत्फ़ उठाएगी,

पीहर को आबाद किया, ससुराल को स्वर्ग बनाएगी|

बेटी बन कर उभरी है, बहु बनकर जानी जाएगी|

 

रिश्तो की यह गर्माहट, जीवन भर इसे अलाव देना,

जो सास ससुर खुशियाँ बांटे, बादल बन उन्हें समा लेना,

गर गुस्सा उन्हें आ जाए कभी, तुम प्यार भरी फुहार देना,

जब उम्र का तराजू झुकने लगे, चिडचिडापन उनका बढ़ने लगे,

तुम स्नेह का बादल बनकर के, भर भर कर बरसा देना,

जो प्यार दिया मुट्ठी भरकर, “भरत” वो अतुलित प्यार बना देना|

 

भाई की आशीष यही, माँ-बाप की ख्वाहिश यही,

बेटी बन कर तू रही यहाँ, बेटी वहां भी बन जाएगी,

सास ससुर की सेवा में, बस इतना धर्म निभा देना|

Read Full Post »