Feeds:
Posts
Comments

Posts Tagged ‘भारत’


पिता पुत्र आपस मे बतिया रहे थे,
किस्से अपने अपने सुना रहे थे,
पिता बोले-
एक समय ऐसा होता था,
जब नौकरी मे इतना पैसा नही होता था,
तब भी हम अच्छे से घर चलाते थे,
और दो पैसे भी बचाते थे,
50 रूपये लेकर जाते थे,
और महीने भर का राशन ले आते थे,
बेटा बोला-
पिताजी आजकल यह मुमकिन नही होता है,
हर दुकान मे CCTV लगा होता है॥

Read Full Post »


सांसो की करेंसी एक दिन Out of Date हो जायेगी,
तब तक इंतज़ार किया तो बहुत Late हो जायेगी,
कमा लो कुछ खुशियां, कुछ हंसी, कुछ अच्छे कर्म,
भर लो खजाने रिश्तो के, मुस्कानों के,
यही वो पूँजी है तो सात पीढ़ी के काम आएगी।
“भरत” मरने के बाद भी तुम्हे लोगो के बीच जिन्दा कर जायेगी।

।।ॐ अर्हम।।

Read Full Post »


जिंदगी बदलती रही, सवालात बदलते रहे,
वक्त बदलता रहा, हालात बदलते रहे,
राहे बदलती रही, राही बदलते रहे,
“भरत” इतने बुरे भी नहीं थे हम,
ना जाने क्यों, लोगो के ख्यालात बदलते रहे।।

Read Full Post »


होठों में क्या बात छुपी,
मुस्कान अधूरी लगती है,
आँखों में है नींद छुपी,
तलाश अधूरी लगती है,
धड़कन में ख़ामोशी सी,
ये बाते अधूरी लगती है,
ना दिखे अगर तू महफिल में,
महफ़िल अधूरी लगती है,
जाने क्यों तेरे बिन “भरत”,
ये शाम अधूरी लगती है ।।

Read Full Post »


संतान की खुशियो की खातिर,
पत्थर से पानी निचोड़ते,
खुद को तपा कर धुप में,
तेरे खातिर छाया ढूंढते,
खुद रातों की नींद उड़ा कर,
तेरी मखमली नींदे टंटोलते,
बन कर सहारा खड़े हुए है,
आंधी तुफा में न डोलते,
सह जाते है हर गम यु ही,
मुख से कुछ ना बोलते,
संतान की आँखों में देख चमक,
उसमे ही खुशियाँ टंटोलते,
खुद दिखते है धीर गंभीर,
मुख से ना कुछ बोलते।

पिता की आँखों में आज भी,
अक्स तुम्हारे दीखते है,
धड़कन को कभी भी सुन लेना,
शब्द तुम्हारे रहते है,
वह हाड मांस की काया है,
संतानो के सपने बसते है,
गर आफत जरा तुम पर आये,
वो अस्त व्यस्त से दीखते है,
गर ख़ुशी तुम्हें मिल जाए कोई,
वो मुस्काते से दीखते है।

वो साया जब तक साथ रहे,
माथे पर “भरत” हाथ रहे,
किस्मत की भी औकात नहीं,
राहे मंजिल तक साफ़ रहे।।

Read Full Post »


दुनिया के छलावों से फारिग होना चाहता हूँ,

मैं अब जी भर कर सोना चाहता हूँ |

मिट्टी के वो घरोंदे बनाते,

सुन्दर भावी के सपने संजोते,

फिर बचपन की यादों में खोना चाहता हूँ,

मैं अब जी भर कर सोना चाहता हूँ |

दिन भर की भाग दौड़ से त्रस्त ,

होकर हालातों से पस्त,

सुख चैन कमाना चाहता हूँ,

मैं अब जी भर कर सोना चाहता हूँ |

प्रगति के सोपान चढ़ने में,

साँसे कुछ उखड़ने सी लगी है,

“भरत” अब साँसे शुकून की चाहता हूँ,

मैं अब जी भर कर सोना चाहता हूँ ||

Read Full Post »


नव दिन, नव पल,
नव रंग, नया सवेरा आया हैं,

डगर डगर यु चलने वाले,

सपनो का संसार बसा ले,

नव जीवन का संकल्प लेकर,

नया सवेरा आया है|

 

सोने जैसी जगमग किरणे,

रोशन करती जीवन पथ को,

सतरंगी रंगों के आँचल,

तू अपनी बाहों में भर ले,

घना अँधेरा, रात भयानक,

तू पीछे छोड़ आया है,

जीवन में सत रंगी भरने,

नया सवेरा आया हैं|

 

पंछी का तू कलरव सुन ले,

या पानी की कल-कल सुन ले,

मुक्त मधुर हवा के संग फिर,

पंख लगा कर तू अब उड़ ले,

सपनो को अब सच करने का,

नया सवेरा आया हैं|

 

सही रास्ता, सही है मंजिल,

पत्थर राहो में आज नहीं हैं,

मन में मस्ती, गीत लबो पे,

होठों पर मुस्कान वही हैं,

हर पल को फिर रोशन करने,

नया सवेरा आया हैं|

Read Full Post »

Older Posts »