Feeds:
Posts
Comments

Posts Tagged ‘राजलदेसर’


आओ सुनाऊ तुम्हे एक कहानी,
एक था राजा, एक थी रानी,
खूब किया खर्च, अब कम बचा पानी,
त्राहि चहु और, बस पानी ही पानी।
आओ सुनाऊ……

राजा था जिद्दी, पानी वेस्ट करता,
ना कहा सुनता, घंटो नाहता रहता,
राज्य में सुखा, सब कुओं का पानी,
खूब ढूंढा, पर ना मिले पानी,
पानी न मिलता, पानी ना बनता,
ये तो है, खुदा की मेहरबानी।

हर तरफ दंगे, बस चाहिए पानी,
पर पानी ना मिला, था खत्म अब पानी,
राजा था बेबस, बेबस थी वो रानी,
प्यास से आजिज, मर रहे प्राणी,
मर गया राजा, मर गई रानी,

रह गया अब तो बस आंख में पानी,
त्राहि चहु और, बस पानी ही पानी।

यही है हमारे फ्यूचर की कहानी,
सोचो थोड़ा सा, तुम चिंतन कर लो,
पानी का थोडा, संरक्षण कर लो,
कल न कहना, अब ना बचा पानी,
सुखद अंत से हो खत्म कहानी,
खुश रहे प्रजा, खुश राजा रानी।
आओ सुनाऊ तुम्हे एक कहानी…..

Advertisements

Read Full Post »


पुराने सफर के कुछ अवशेष उठा लो,
भूत में जाकर कुछ यादें चुरा लो,
पुराने, भूले-बिसरे रिश्ते, फिर बनालो,
अपने चाहने वालो को गले लगा लो,
क्या पता इस जीवन में “भरत”,
कब विश्राम हो जाये,
करने तो बहुत कुछ बाकी था,
पर समय ही शेष हो जाये।

Read Full Post »


रोटियों की भाषा जानती है,
भूख की वर्णमाला जानती है,
प्यार की परिभाषा जानती है,
हर समस्या की औषध जानती है,
हाँ, यह औरत है,
जो मुझको मुझसे बेहतर जानती है।
कभी मां बनकर मुझे पालती है,
कभी बहन बनकर स्नेह उड़ेलती है,
कभी पत्नी बनकर परछाई बनती है,
कभी बेटी बनकर उमंगे भरती है,
हाँ, यह औरत है,
जो मुझमे ऊर्जा का संचार करती है।
बच्चो को देख हरी होती है,
भाई को देख झगड़ती है,
पति को देख रूठती है,
पिता को देख नखरे करती है,
हाँ, यह औरत है,
जो मुझमे जीवन के रंग भरती है।
यह जीवन भर त्याग करती है,
जीवन भर याद करती है,
जीवन भर साथ देती है,
जीवन भर फिक्र करती है,
हाँ, यह औरत है,
जो जीवन को पूर्ण करती है।

Read Full Post »


धुंध सी फैली हुई थी,
मखमली चादर फैली हुई थी,
रोशनी का आभास था,
कुछ साथ चलने का आभास था,
धुंध में जो हाथ डाला तो क्या निकला,
कंधे जो टटोले, तो क्या निकला,
भरत मंजिल की राहों में
तो दो चार हाथ ही मिले,
जश्न के समय पूरा काफिला निकला॥

Read Full Post »


कुछ अक्स बस दिल मे रह जाते है,
घोंसले छोड़ परिंदे भी उड़ जाते है,
वो सूरते जिनको देख कर जीते थे,
ये चक्षु अब देखने को तरस जाते है,
जिंदगी के रंगमंच पर निभा,
अपना किरदार बखूबी,
दुखद अंत के साथ,
आंखों में अश्क़ पिरो जाते है,
चले जाते है यकायक ऐसे,
जाने वाले लौट के नही आते है॥

Read Full Post »


जीवन क्या है,
कुछ सांसो का ताना बाना है,
जब तक सांस है,
तब तक साथ है,
सांस छूटी, साथ छूट जाना है,
एक सांस का आना है,
साथ ही एक सांस का जाना है,
अंत मे तुझे अकेले ही रह जाना है,
जब तू छोटा बच्चा था,
सब तुझको पूछा करते थे,
जब जवानी आई,
सब तुझे माना करते थे,
बुढ़ापे में तेरे पास,
सब समय बिताया करते थे,
ये सब एक पड़ाव था,
बस तेरा एक गुमान था,
प्राण निकलते ही तो तू,
अपवित्र हो जाता है,
मरघट ही अंत ठिकाना है,
धु धु कर जल जाना है,
अंतिम पड़ाव चित्ता पर भी,
अकेले ही रह जाना है,
चित्ता के आग पकड़ते ही,
सबको साथ छोड़ जाना है,
कुछ दिन का है रोना धोना,
फिर सब कुछ भूल जाना है,
जी ले सार्थक जीवन,
ना कुछ लेकर आया था,
ना कुछ लेकर जाना है,
जीवन मौत के बीच पड़ाव का,
ज्यादा लाभ कमाना है,
यह जीवन सार्थक बनाना है।

Read Full Post »


बीज धरती में दबा,
थी पौधा बन जाने की क्षमता,
सिर्फ मिट्टी और नमी का सहयोग काफी ना था,
मिट्टी से निकल बाहर,
महसूस की थी सूरज की तपिश,
ठंडी हवा के संग बस चहकना काफी ना था,
दिया आसरा तितलियों को,
भंवरो ने भी रसपान किया,
सिर्फ कोपलों का निकलना काफी ना था,
प्रभु चरणों मे अर्पित हुआ,
सहा था टहनी से बिछोह का गम,
बस फूल बन इठलाना काफी ना था,
मुकाम जिंदगी में पाया उसने,
हर बाधा को हटाया उसने,
दुसरो के भरोसे बैठना काफी ना था॥

Read Full Post »

Older Posts »